Friday, May 30, 2014

मोरचंग

कौन जानता है
किसकी दंतपंक्ति है,
किसका हाथ है
किसका 'तार' है
कौन वो रूपोश है
किसका ये विस्तार है 

नहीं, संगीत नहीं
नहीं, नहीं, नहीं
इनमें संगीत नहीं
नाद नहीं,  नर्दन है 
क्रंदन है, घोर क्रंदन है
अप्रत्यास्थ है, अखंडनीय है,  अधर्षनीय है
कितना जिद्दी है
बजता ही रहता है
प्रारंभ से अंत तक
यह मोरचंग
क्यों, किसलिए
कौन जान पाया है ?

(निहार रंजन, समिट स्ट्रीट, २७ मई २०१४)

10 comments:

  1. अद्धभूत अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  2. नयी पुरानी हलचल का प्रयास है कि इस सुंदर रचना को अधिक से अधिक लोग पढ़ें...
    जिससे रचना का संदेश सभी तक पहुंचे... इसी लिये आप की ये खूबसूरत रचना दिनांक 02/06/2014 को नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही है...हलचल में आप भी सादर आमंत्रित है...

    [चर्चाकार का नैतिक करतव्य है कि किसी की रचना लिंक करने से पूर्व वह उस रचना के रचनाकार को इस की सूचना अवश्य दे...]
    सादर...
    चर्चाकार कुलदीप ठाकुर
    क्या आप एक मंच के सदस्य नहीं है? आज ही सबसक्राइब करें, हिंदी साहित्य का एकमंच..
    इस के लिये ईमेल करें...
    ekmanch+subscribe@googlegroups.com पर...जुड़ जाईये... एक मंच से...

    ReplyDelete
  3. कोई नहीं जान पाया।.....आखिर ये है कौन।

    ReplyDelete
  4. यही तो मुश्किल है जानना.. आखिर कौन जान पायेगा ? अद्भुत पोस्ट एकदम ह्रदय से उपजी हुई

    ReplyDelete
  5. बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति ....!!

    ReplyDelete
  6. शायद इसी बात को जानना मुमकिन नहीं हो पाया आज तक ...

    ReplyDelete
  7. ये वो जो तुझमे और मुझमे और समस्त विराट में व्याप्त है | अति सुन्दर अभिव्यक्ति बस एक बात ये "मोरचंग" क्या है क्या 'मृदंग' का ही कोई रूप

    ReplyDelete
  8. बहुत कठिन है यह सब जानना ,बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  9. सुन्दर विविध वाद्ययंत्रों की इस अभिव्यक्ति का आनन्द अनुभूत करना ही अपने आप में एक उपलब्धि है क्यों क्या कैसे का विज्ञान तो रुक्षता ही उत्पन्न करेगा

    ReplyDelete
  10. इसलिए तो उस अबूझ के लिए इतना आकर्षण है जो कभी कम ही नहीं होता है ..

    ReplyDelete