Thursday, October 31, 2013

यही हो याचना

आप सबों को दीवाली की हार्दिक शुभकामनायें!


शाप, प्रतिशाप के निरर्थक
अग्नि की झुलसाई
वेदना संतप्त लेकिन 
अम्लान मुखी हुलसाई
देवलोक की प्यारी
है धर्म निभाने आई
नदी, वृक्ष का रूप धर
करने को कुशलाई
नहीं जानती है वो
होती क्या कृपणाई
आओ हाथ पसारें
मांगे निर्मल मन
मांगे वो गुण उससे
धन्य करे जो जीवन
और याच लें उससे
बीते तिमिरमय रात
कालेय किल्विष पर
हो कुलिश का पात

(निहार रंजन, सेंट्रल, ३१ अक्टूबर २०१३)

कालेय किल्विष- कलयुगी पाप

कुलिश- वज्र 

22 comments:

  1. सुन्दर याचना ........आपको भी दीवाली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  2. बहुत ही बढ़िया सर!
    दीप पर्व आपको सपरिवार मंगलमय हो!

    सादर

    ReplyDelete
  3. आत्‍मप्रेरणा के साथ-साथ परोपकार से गुंथी हुई गहन भाववाली कविता।

    ReplyDelete
  4. शिवम सुंदरम -बहुत बहुत शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुन्दर
    दीपावली की बहुत बहुत बधाई और हार्दिक शुभकामनायें ....

    ReplyDelete
  6. खुबसूरत अभिवयक्ति...... शुभ दीपावली

    ReplyDelete
  7. बहुत सूंदर भाव , अर्थ देकर बहुत अच्छा किया , बीते तिमिरमय रात
    कालेय किल्विष पर
    हो कुलिश का पात.. बहुत सुन्दर भाव .. दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएं ..

    ReplyDelete
  8. आओ हाथ पसारें
    मांगे निर्मल मन.
    आपने तो मन की बात कह दी....
    दूर देश में रहने वाले तमाम भाई-बंधुओं को दिवाली की हार्दिक बधाई...

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर !!
    दीपावली कि हार्दिक शुभकामना !!

    ReplyDelete
  10. आमीन ... दीपों की रात हमेशा रौशनी ले के आए ...
    दीपावली के पावन पर्व की बधाई ओर शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  11. बहुत अच्छी प्रस्तुति...दीपावली की बहुत बहुत शुभकामनाएं...
    नयी पोस्ट@जब भी जली है बहू जली है

    ReplyDelete
  12. हो कलुष पर वज्र का आघात और मिले निर्मल मन, सुंदर प्रार्तना हमें भी इसमें शामिल जानिये। शुभ दीपावली।

    ReplyDelete
  13. वाह!!! बहुत सुंदर !!!!!
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    बधाई--

    उजाले पर्व की उजली शुभकामनाएं-----
    आंगन में सुखों के अनन्त दीपक जगमगाते रहें------

    ReplyDelete
  14. वाह .... बेहतरीन
    दीपोत्‍सव की अनंत शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  15. आओ हाथ पसारें
    मांगे निर्मल मन
    मांगे वो गुण उससे
    धन्य करे जो जीवन
    और याच लें उससे
    बीते तिमिरमय रात
    कालेय किल्विष पर
    हो कुलिश का पात
    बहुत सुंदर ...

    ReplyDelete
  16. निहार जी दिल कि बातों को बड़ी ही सार्थकता से प्रस्तुत किया हैं आपने बधाई

    ReplyDelete
  17. निहार जी दिल कि बातों को बड़ी ही सार्थकता से प्रस्तुत किया हैं आपने बधाई

    ReplyDelete
  18. मेरे ब्लॉग कि नयी पोस्ट आपके और आपके ब्लॉग के ज़िक्र से रोशन है । वक़्त मिलते ही ज़रूर देखें ।
    http://jazbaattheemotions.blogspot.in/2013/11/10-4.html

    ReplyDelete
  19. Hello!

    You have been awarded and tagged! Kindly accept the 'Leibstar Award' from my blog!

    :)

    ReplyDelete
  20. वाह!
    सुन्दर शब्द चयन... अति सुन्दर भाव!
    शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  21. !!! हार्दिक शुभकामनाएं !!!

    ReplyDelete