Sunday, June 9, 2013

दिलबस्त

ज़ब्त कर लो
ह्रदय की उफान
बेरोक आँसू
सिसकियों की तान
म्लिष्ट शब्द तुम्हारे
और ये बधिर कान
व्यर्थ रोदन में
नहीं है त्राण
समय देख प्रियतम !

तचित मन की दाझ
ये बादल बेकार
बस नहीं इनका
दें तुझको तार
अंधियारी रातों से
एकल आवार
सपने! हाँ वही
रहे जिंदा तो हों साकार 
समय देख प्रियतम !

किस बात का मलोल
शिकायतों को छोड़
खुली आँखों से देख
भुग्न-मन की जड़ता तोड़
उत्कलित फूलों पर
सुनो भ्रमरों का शोर
पाओ चिंगारी को
जाते वारि-मिलन की ओर
समय देख प्रियतम !

ताखे की ढिबरी से
अपना काजल बना
पायल बाँध पैरों में  
गाढ़ा अलक्त रचा
मन आकुंचन को
असीमित विस्तार दिला
दृप्त मन से
फिर से गीत गा 
समय देख प्रियतम !

(निहार रंजन, सेंट्रल, ६ जून २०१३)

दाझ = जलन 

17 comments:

  1. शुभप्रभात
    ज़ब्त कर लो ह्रदय की उफान
    कभी-कभी सैलाब आता है
    व्यर्थ रोदन में नहीं है त्राण
    कुछ अनर्थ नहीं होगा
    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  2. प्रेम से सराबोर रचना बहुत खुबसूरत ......

    ReplyDelete
  3. असीमित विस्तार दिला
    दृप्त मन से
    फिर से गीत गा...
    प्रेम..प्रेम..

    ReplyDelete
  4. बहुत ही बढ़िया


    सादर

    ReplyDelete
  5. ह्रदय-तंत्री झंकृत हो रहे हैं. .. सुन्दर ..अति सुन्दर कृति..

    ReplyDelete
  6. ह्रदय-तंत्री झंकृत हो रहे हैं. .. सुन्दर ..अति सुन्दर कृति..

    ReplyDelete
  7. ताखे की ढिबरी से
    अपना काजल बना
    पायल बाँध पैरों में
    गाढ़ा अलक्त रचा
    मन आकुंचन को
    असीमित विस्तार दिला
    दृप्त मन से
    फिर से गीत गा
    समय देख प्रियतम !...

    बहुत खूब ... सब कुछ समय पे ही तो निर्भर है ... प्रेम के उन्मुक्त भाव में रचना छंद ...

    ReplyDelete
  8. फिर से गीत गा
    समय देख प्रियतम !
    bilkul sahi kaha samay ko dekhna jaruri hai ,,,,

    ReplyDelete
  9. bahut sundar, kuchh shabdon ke arth samjhne me kathinai hui.

    ReplyDelete
  10. जैसे किसी अभिसारिका को हो आमंत्रण

    ReplyDelete
  11. शब्द संयोजन मधुर भाव संयोजन, बड़ी सुन्दर रचना है !
    बस "दाझ" शब्द का मतलब नहीं समझी !
    दाह है क्या ?

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना...शब्दों और भावों का अद्भुत संयोजन....

    ReplyDelete
  13. ताखे की ढिबरी से
    अपना काजल बना
    पायल बाँध पैरों में
    गाढ़ा अलक्त रचा
    मन आकुंचन को
    असीमित विस्तार दिला

    सुन्दर रचना
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  14. वाह.......अति सुन्दर ......

    ReplyDelete
  15. Beautiful. Second and last verse are too good, loved it!

    ReplyDelete