Saturday, March 9, 2013

सोचो नदियाँ क्या कहती है!

सोचो नदियाँ क्या कहती है!


चलती रहती वह हर क्षण अपने पथ पर
हर तृषित का करती है वो रसमय अधर
पावस शरद की परवाह नहीं करती है वो
उत्तुंग शिखर से च्युत हो आह नहीं करती है वो
बेहैफ धरा पर चाल लिए वो अमलारा
कल-छल-कल-छल बढती जाती उसकी धारा
निरुद्येश्य क्या वो यूँ ही चलती है ?
सोचो नदियाँ क्या कहती है!

हिमगिरि की अप्रतुल सुन्दरता तज बढ़ जाती अकेली
उद्भव से अपने जीवन में पाती है राहें पथरीली
चट्टानों से मिलते जुलते गिरते उठते हिलते
निर्जन जंगल में नाद किये बढ़ते चलते
कांचनार और खार से निःसंकोच करती अभिसार
जलचर थलचर और नभचर को देते प्यार
धरती पर हमसे मिलने आ जाती हैं   
सोचो नदियाँ क्या कहती है!

वह नहीं मांगती मूल्य प्यास बुझाने की
वो नहीं करती है रार अजसी हो जाने की
ईश्वर अभिदत्त अमलता वो लिए हुए
वर्णों योनि में बिना कोई विभेद किये
जो बटोही आ जाता प्यासा उसके तीर
हरदम हाजिर रहती है वो लिए विपुल नीर
जलधि मेल को अविरत चल बढ़ जाती है
सोचो नदियाँ क्या कहती है!

सोचो हम तुम जीवन में बिन त्याग किये
निश्छल, निर्लोभी हिय बिन परमार्थ किये
अवरोधों से दुबक, छोटे गलियारों से निकल
बिना पिये जीवन में थोड़ा सा काराजल
सागरमाथा चढने को रहते हम अधीर
बिन त्यग्जल तजे बने जाते है वाग्वीर  
पर नदियाँ क्या सहती है, कुछ कहती है?
सोचो नदियाँ क्या कहती है!

दुर्गम सी अपनी राहें भी हो तो चलते जाओ
और जो मिले पंथ में प्रेम उसे देते जाओ
द्वेष लिए मन में, लिए अथाह स्वार्थ
नाहक न जियो मनुज जीवन अपार्थ
पिया (सागर) मिलन को इकलौता लक्ष्य मान
चलते ही रहना जीवन में करते उत्थान
सन्देश यही देती हमे वहती है
शायद  नदियाँ  यही कहती है!

(निहार रंजन, सेंट्रल, ९ मार्च २०१३)

35 comments:

  1. ॐ नाम: शिवाय ! हर-हर महादेव !!
    उम्दा पसंद की अद्धभुत प्रस्तुती !!

    ReplyDelete
  2. शायद नदियाँ यही कहती है!

    सचमुच यही कहती हैं

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर,शब्दों का चयन और संयोजन प्रस्तुति को उत्तम बनाता है. कविता अपने निहित भावों का वाहन करने में पूर्णतः सक्षम है.बधाई.
    सादर
    नीरज 'नीर'

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!

    महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ !
    सादर

    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
    अर्ज सुनिये

    ReplyDelete
  5. वह नहीं मांगती मूल्य प्यास बुझाने की
    वो नहीं करती है रार अजसी हो जाने की
    ईश्वर अभिदत्त अमलता वो लिए हुए
    वर्णों योनि में बिना कोई विभेद किये
    जो बटोही आ जाता प्यासा उसके तीर
    हरदम हाजिर रहती है वो लिए विपुल नीर
    जलधि मेल को अविरत चल बढ़ जाती है

    सही कहा हमें प्रकृति से सीख लेनी चाहिए .....!!

    ReplyDelete
  6. दुर्गम सी अपनी राहें भी हो तो चलते जाओ
    और जो मिले पंथ में प्रेम उसे देते जाओ
    -----------------------------------
    bahut sundar niharji

    ReplyDelete
  7. दुर्गम सी अपनी राहें भी हो तो चलते जाओ

    गहन..... विचारणीय भाव

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति,आभार.महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  9. सन्देश यही देती हमे वहती है
    शायद नदियाँ यही कहती है!

    गंभीर चिंतन से निकला सार्थक सन्देश. बधाई.

    महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  10. "दुर्गम सी अपनी राहें भी हो तो चलते जाओ
    और जो मिले पंथ में प्रेम उसे देते जाओ"
    भा गया ये सन्देश। सुन्दर अभिव्यक्ति निहार भाई।

    ReplyDelete

  11. दिनांक 11/03/2013 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हलचल में स्थान देने के लिए बहुत बहुत आभार यशवंत भाई.

      Delete
  12. आपकी पंक्तियों को पढ़कर सहसा जयदेव के गीतगोविंद की पंक्तियां याद आ गई। वसति विपिन विताने, धरणि शयने, त्यजति ललितधाम, बहुविलपति तव हरिनाम। अपने तुंग शिखरों के स्वर्ग को छोड़कर धरती पर पाप हरने जीवनदायी नदियाँ आती हैं। आभार

    ReplyDelete
  13. सुंदर अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  14. नदियाँ , झीलें मानव के अस्तित्व के लिए आवश्यक एवं प्रेरक है .
    सुन लिया जो वे कहती है , क्या खूब कहती है !

    ReplyDelete
  15. लगा जैसे नदियाँ ही बोल रही हों ......

    ReplyDelete
  16. Quite profound, we should follow its course to face life and be a better person.

    ReplyDelete
  17. BOLTI NADIYA,DOLTI NADIYA,ZINDGI KO AAYAM DETI NADIYAN, BAHUT KHOOB.

    ReplyDelete
  18. प्रभावशाली अभिव्यक्ति ..अद्भुत और उत्कृष्ट .

    ReplyDelete
  19. पिया (सागर) मिलन को इकलौता लक्ष्य मान......very nice....

    ReplyDelete
  20. प्रकृति सदा ही हमें देती ही रहती है चाहे वह नदी हो या वृक्ष ।

    ReplyDelete
  21. नदियों के माध्यम से जीवन का सन्देश देती अनुपम रचना ...

    ReplyDelete
  22. Replies
    1. मधेपुरा टुडे में स्थान देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद.

      Delete
  23. अविरल बहने का अप्रतिम सन्देश

    ReplyDelete
  24. कितनी सीख दे जाती है नदी की धारा!

    ReplyDelete
  25. saral shabdo mai behtrin post -***

    ReplyDelete
  26. प्रकृति तो हमेशा ही देना जानती है ...मानव ही सीखने से परहेज़ करता चलता है .....प्रेरणाप्रद रचना
    आपके स्वागत के इंतज़ार में ...
    स्याही के बूटे

    ReplyDelete
  27. कलकल करती नदियाँ बहुत कुछ सीखाती हैं हमें
    सुन्दर सार्थक रचना
    साभार !

    ReplyDelete
  28. संदेशपूर्ण अभिव्यक्तिपूर्ण

    ReplyDelete
  29. बड़ी प्यारी रचना है ...
    बधाई !

    ReplyDelete
  30. सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
    Replies
    1. atayant sundar rachna Nihar ji.

      Delete
    2. बकुल जी, ब्लॉग पर आने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया. आपसे एक युग सा हो चुका है संवाद हुए. जहां तक मुझे याद आ रहा है शायद आपका भी कोई ब्लॉग है. मैंने कहीं आपकी एक दो कवितायें पढ़ी थी. कृपया अपने ब्लॉग का पता दीजिये.

      Delete