Saturday, January 12, 2013

ज्योति थी तुम जीते जी, ज्योत हो तुम मर कर भी

ज्योति थी तुम जीते जी, ज्योत हो तुम मर कर भी


तेरी चीख नहीं सुनी हमने
पर घोर शोर है मन में
धधक उठी आज आग
हमारे हिस्से के हर कण में  

हो तुम मौजूद नहीं पर
तेरी ख़ामोशी कहती है सबसे
मचेगा प्रलय भारतभूमि पर
अगर जगो ना तुम अबसे    

आ गया वक़्त है जब
हम खुद से करें तदबीर  
और बदलें सबसे पहले
अपने समाज की तस्वीर

खोल दे बेड़ियाँ बेटियों के पैर से,
दें हम उसके हाथ कलम
लिखने दे उसे खुद की तकदीर,
मिटाने दे उसे खुद के अलम   

हम ना दें अब और उसके
गमज़ा-ओ-हुस्न की मिसाल
तंज़ न दें उसको बदलने को,
हम ही बदलें अपनी चाल

हमने माना की सारे बुजुर्ग
होंगे नहीं हमारे हमकदम  
नदामत है हमारे ज़माने की,
करें अज़्म लड़ेंगे खुद हम

वो जो हर अपना घर में
मांगेगा दहेज़ गहने जेवर
अहद लो आज खुद उठके
तुम दिखाओगे चंगेजी-तेवर  

ये शपथ लो ब्याह ना आये
कभी बेटी की शिक्षा की राह
उसको रुतबा-ओहदा पाने दो
जिसकी उसको मन में है चाह

दामिनी!

तुम जा चुकी हो उस मिटटी में
जहां हम भी एक रोज़ आयेंगे
काश! जो तुम न देख सकी
उस समाज की दास्ताँ सुनायेंगे

ये मत समझना तुम
व्यर्थ हुए तुम्हारे प्राण
तन्द्रासक्त भारतभूमि पर
जागेंगे जन एक नवविहान

खोल दी सबकी आँखें,
झकझोड़  दिया अन्तर भी
ज्योति थी तुम जीते जी,
ज्योत हो तुम मर कर भी

(निहार रंजन, सेंट्रल, १-१२-२०१२)

24 comments:

  1. सही कहा आपने ,बहुत सुंदर बधाई....

    ReplyDelete
  2. खोल दी सबकी आँखें,
    झकझोड़ दिया अन्तर भी
    ज्योति थी तुम जीते जी,
    ज्योत हो तुम मर कर भी
    बहुत सही कहा है आपने....
    संवेदनशील रचना..

    ReplyDelete
  3. प्रभावशाली ,
    जारी रहें।

    शुभकामना !!!

    आर्यावर्त (समृद्ध भारत की आवाज़)
    आर्यावर्त में समाचार और आलेख प्रकाशन के लिए सीधे संपादक को editor.aaryaavart@gmail.com पर मेल करें।

    ReplyDelete
  4. सही कहा आपने ! काश! हर कोई ऐसा ही सोचे, ऐसा ही करे !
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  5. प्रभावशाली ,
    जारी रहें।

    शुभकामना !!!

    आर्यावर्त (समृद्ध भारत की आवाज़)
    आर्यावर्त में समाचार और आलेख प्रकाशन के लिए सीधे संपादक को editor.aaryaavart@gmail.com पर मेल करें।

    ReplyDelete
  6. बहुत सही सार्थक प्रस्तुति . हार्दिक आभार हम हिंदी चिट्ठाकार हैं

    ReplyDelete
  7. बहुत सही कहा सर!


    सादर

    ReplyDelete
  8. लोहड़ी और मकर संक्रांति की हार्दिक शुभ कामनाएँ!


    दिनांक 14/01/2013 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. मकर संक्रांति की शुभ कामनाएँ आपको भी यशवंत भाई. हलचल में इस पोस्ट को स्थान देने के लिए आपका शुक्रिया.

      Delete
  9. दामिनी का बलिदान व्यर्थ नहीं जाना चाहिए ... युवाओं पे ये जिम्मा ज्यादा है ...
    मकर संक्रान्ति ओर लोहड़ी की बधाई ...

    ReplyDelete
  10. जिम्मेदारी हम सभी की ही समाज में सार्थक बदलाव लाने की. बहुत सुंदर कवितायेँ.


    शुभकामनायें पोंगल, मकर संक्रांति और माघ बिहू की.

    ReplyDelete
  11. सटीक ..... बदलाव आना ही होगा ।

    ReplyDelete
  12. मार्मिक चित्रण...उम्दा प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  13. सबकी सोच ऐसी हो तो बदलाव आएगा ही....मकर संक्रांति की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  14. सार्थक व संवेदनशील पोस्ट ।

    ReplyDelete
  15. बहुत बढ़िया....
    सार्थक सोच लिए कविता..

    अनु

    ReplyDelete
  16. आ गया वक़्त है जब
    हम खुद से करें तदबीर
    और बदलें सबसे पहले
    अपने समाज की तस्वीर


    सरासर



    ReplyDelete
  17. वाह निहार जी ...दामिनी पर इतनी अच्छी कविता अभी तक नहीं पढ़ी .....

    ReplyDelete
  18. आ गया वक़्त है जब
    हम खुद से करें तदबीर
    और बदलें सबसे पहले
    अपने समाज की तस्वीर

    वाह !सुंदर पंक्तियाँ .बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  19. Profound. Hope we change and provide safer environment for our daughters. BTW, what's the meaning of this phrase, 'गमज़ा-ओ-हुस्न'?

    ReplyDelete
  20. गमज़ा is women's enticing movement of eyes/eyebrows.Her नाज़-नखरे. The larger meaning of गमज़ा here is अदा. So गमज़ा-ओ-हुस्न here would mean अदा-और-हुस्न.

    ReplyDelete
  21. ये मत समझना तुम
    व्यर्थ हुए तुम्हारे प्राण
    तन्द्रासक्त भारतभूमि पर
    जागेंगे जन एक नवविहान

    बहुत ही सही बात कही आपने ,,,
    प्रभावशाली रचना ...

    ReplyDelete
  22. खोल दी सबकी आँखें,
    झकझोड़ दिया अन्तर भी
    ज्योति थी तुम जीते जी,
    ज्योत हो तुम मर कर भी
    ..........बदलाव आना ही होगा

    ReplyDelete