Friday, February 28, 2014

पुकार

कैद रहने दो मुझे दोस्त, कोई हवा ना दो
रहने दो ज़ख्म मेरे साथ, कोई दवा ना दो

इन तल्ख एहसासों को उतर जाने दो सुखन में
लिखने दो दास्ताँ-ए-खला, मुझको नवा ना दो

जज़्ब होने दो, हर कुछ जो है शब के पास   
होने दो मह्व सितारों में, मुझको सदा ना दो

इन सितारों में जो अक्स बन, फिरता है बारहा
खोया हूँ उसी में मैं, मुझको जगा ना  दो

यह आशिकी, है आशिकी लैला मजनूं से अलेहिदा 
इस आशिकी को ना दो दुआ, पर बद-दुआ ना दो 

ये तजुर्बा जरूरी है बहुत जीवन की समझ को
डूबने का असर जान लूं, नाखुदा ना दो 


(निहार रंजन, सेंट्रल, १६-११-२०१२) 

नवा- आवाज़ 
मह्व- मिमग्न 
बारहा-बार-बार 

25 comments:

  1. ***आपने लिखा***मैंने पढ़ा***इसे सभी पढ़ें***इस लिये आप की ये रचना दिनांक03/03/2014 यानी आने वाले इस सौमवार को को नयी पुरानी हलचल पर कुछ पंखतियों के साथ लिंक की जा रही है...आप भी आना औरों को भी बतलाना हलचल में सभी का स्वागत है।


    एक मंच[mailing list] के बारे में---


    एक मंच हिंदी भाषी तथा हिंदी से प्यार करने वाले सभी लोगों की ज़रूरतों पूरा करने के लिये हिंदी भाषा , साहित्य, चर्चा तथा काव्य आदी को समर्पित एक संयुक्त मंच है
    इस मंच का आरंभ निश्चित रूप से व्यवस्थित और ईमानदारी पूर्वक किया गया है
    उद्देश्य:
    सभी हिंदी प्रेमियों को एकमंच पर लाना।
    वेब जगत में हिंदी भाषा, हिंदी साहित्य को सशक्त करना
    भारत व विश्व में हिंदी से सम्बन्धी गतिविधियों पर नज़र रखना और पाठकों को उनसे अवगत करते रहना.
    हिंदी व देवनागरी के क्षेत्र में होने वाली खोज, अनुसन्धान इत्यादि के बारे मेंहिंदी प्रेमियों को अवगत करना.
    हिंदी साहितिक सामग्री का आदान प्रदान करना।
    अतः हम कह सकते हैं कि एकमंच बनाने का मुख्य उदेश्य हिंदी के साहित्यकारों व हिंदी से प्रेम करने वालों को एक ऐसा मंच प्रदान करना है जहां उनकी लगभग सभी आवश्यक्ताएं पूरी हो सकें।
    एकमंच हम सब हिंदी प्रेमियों का साझा मंच है। आप को केवल इस समुह कीअपनी किसी भी ईमेल द्वारा सदस्यता लेनी है। उसके बाद सभी सदस्यों के संदेश या रचनाएं आप के ईमेल इनबौक्स में प्राप्त करेंगे। आप इस मंच पर अपनी भाषा में विचारों का आदान-प्रदान कर सकेंगे।
    कोई भी सदस्य इस समूह को सबस्कराइब कर सकता है। सबस्कराइब के लिये
    http://groups.google.com/group/ekmanch
    यहां पर जाएं। या
    ekmanch+subscribe@googlegroups.com
    पर मेल भेजें।
    [अगर आप ने अभी तक मंच की सदस्यता नहीं ली है, मेरा आप से निवेदन है कि आप मंच का सदस्य बनकर मंच को अपना स्नेह दें।]

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब सर!


    सादर

    ReplyDelete
  3. प्रभावित करती रचना ...

    ReplyDelete
  4. बहुत खूबसूरत ग़ज़ल ....!!!

    ReplyDelete
  5. ये पुकार अलहदा है साहब... कभी-कभी उसकी प्रतिध्वनि अंदर ह्रदय तक प्रहार करती है......

    ReplyDelete
  6. सभी गजल एक से बढ़कर एक....बहुत बढ़िया ...

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर..... कुछ शब्दो के हिंदी अर्थ नहीं समझ आये जैसे ...नवा,बारहा,मह्व

    ReplyDelete
  8. दुआ बद्दुआ के बीच चलती जिन्‍दगी।

    ReplyDelete
  9. Mubarak ho aapko aapka ye Kaid-Khana...

    ReplyDelete
  10. लाजवाब शेर हैं इस गज़ल के ... जीवन के फलसफे की तरह ...

    ReplyDelete
  11. बहुत खूब निहार भाई ..... ग़ज़ल में भी आप कमाल हैं |

    ReplyDelete
  12. जीवन का फलसफा कहती खूबसूरत नज़म...बहुत खूब

    ReplyDelete
  13. शुभानअल्लाह ! शुभानअल्लाह ! शुभानअल्लाह !

    ReplyDelete
  14. बहुत खूब , बधाई आपको !!

    ReplyDelete
  15. बहुत उम्दा..होली की आपको सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  16. यह आशिकी, है आशिकी लैला मजनूं से अलेहिदा
    इस आशिकी को ना दो दुआ, पर बद-दुआ ना दो
    बहुत खूब ..

    ReplyDelete
  17. वाह...सुन्दर रचना ...
    नयी पोस्ट@चुनाव का मौसम

    ReplyDelete
  18. wah shandar gajal ke liye bahut bahut aabhar ranjan ji

    ReplyDelete
  19. बशीर बद्र की इक ग़ज़ल मन में कौंधी है ! खूबसूरत !

    ReplyDelete

  20. यह आशिकी, है आशिकी लैला मजनूं से अलेहिदा
    इस आशिकी को ना दो दुआ, पर बद-दुआ ना दो
    वाह भाई रंजन जी कमाल कर दिया आपने ।

    ReplyDelete
  21. वाह निहार भाई, क्या पंक्तियाँ हैं! आपकी हिंदी जितनी उत्कृष्ट है, उर्दू भी उतनी ही उम्दा!
    और बातों-बातों में बड़ी गहन बात हो गयी!
    आशा है आपकी तरफ सब सकुशल है.
    सादर
    मधुरेश

    ReplyDelete
  22. मै तो समझता था की आपकी हिंदी पर पकड़ बहुत अच्छी है लेकिन आप उर्दू शब्दों के भी बाजीगर निकले भाई मान गया आप वाकई लाजबाब रचनाकार है । आभार रंजन जी ।

    ReplyDelete


  23. ☆★☆★☆



    कैद रहने दो मुझे दोस्त, कोई हवा ना दो
    रहने दो ज़ख्म मेरे साथ, कोई दवा ना दो

    वाह ! वाऽह…!



    अच्छा लिखा है
    आदरणीय निहार रंजन जी
    सुंदर रचना के लिए साधुवाद !

    मंगलकामनाओं सहित...
    -राजेन्द्र स्वर्णकार


    ReplyDelete