Tuesday, April 6, 2021

अपने ही अंतर का यह एक गान है

 

 

समय लगता हो गया है स्थिर

व्याप्त चारों ओर हो चुका तिमिर

विथित मन में आये फिर से वितामस

कर रहा हर यत्न, दृढ है स्व-साहस

सोचता प्रतिक्षण, देखता हूँ व्योम को

रवि उग जाता फिर, जब होता अवसान है 

अपने ही अंतर का यह एक गान है

 

आती रहती रह-रह कर एक प्रतिध्वनि 

कुछ भी होती नहीं जीवन में सत्गामिनी

रूप, यौवन, खिला सूरज, हर्ष, क्रंदन 

सतत तो रहता नहीं स्वयं अपना तन

फिर भी मन में रहती जागृत लोभ-ग्रंथि

होती अर्जन की अभिलाषा, शेष जब तक प्राण है  

अपने ही अंतर का यह एक गान है


होती नहीं ज्वलित वेदना अब स्वानंतर

फिर भी एक टीस होती उदीप्त निरन्तर

जलधि सम बाधाओं का विस्तार है

फिर भी मन ने मानी नहीं अभी हार है

ओज है, उर्जा है, स्वप्न की उड़ान है

साधूँगा तब तक निशाना, जब तक तीर कमान है 

अपने ही अंतर का यह एक गान है

 

वो क्षुधा हुई बनी अब भी  उदर में

ये तो है पहली लड़ाई जीवन समर में

भ्रांत मन हैं, फिर भी है आशा विराट

अंत तो होगा ही एक दिन यह विभ्राट

यह जरूरी है बहुत मन मीन सम हो चंचला  

और मचलता ही रहे जब तक होता उत्थान है

अपने ही अंतर का यह एक गान है

 

(ओंकारनाथ मिश्र, सेंट्रल, २४-९-२०१२ )

 


 

 

Sunday, January 10, 2021

नाग-यज्ञ

वो बिल्ली  दूध का स्वाद  जानती है   

एक काला साँप  उसके पास है  

(साँप में लोच स्वाभाविक है )

जांघ पर लिपटा मृत सांप 

नहीं जानता है कोई आदिम स्वाद 

अथवा गली के मोड़ पर क्रीड़ारत दो श्वान 

नहीं जानते हैं कुछ भी 


काला सांप- विवर से ज़हर चख कर आ चुका है 

उसे अब मौत का कोई ख़ौफ़  नहीं है 

विवर है, जहर है 

लेकिन मौत नहीं है.


बुझे  हुए  लैंप पोस्ट के नीचे 

एक आवरण में आवृत 

बिल्ली म्याँउ नहीं करती 

साँप जहर मांगता है 

लैंप पोस्ट बुझा है 


समय ईमानदार है 

लैंप पोस्ट बुझा है 

राजा जनमेजय

नए  नाग-यज्ञ की तैयारी कर रहे हैं. 


(ओंकारनाथ मिश्र, वृंदावन , १० जनवरी २०२१)


Friday, December 25, 2020

निधि बोली — दैट इज सो क्यूट यार !

 () प्राक्कथन 

 मन्द-मन्द प्रवाह अनिल का 

रूप गगन कामनमोही रतनार 

सौरभमयी पथों पर चहुँदिश  

बिखरा हुआ था हरसिंगार 

निधि बोलीदैट इज सो क्यूट यार !

 

() प्रस्तावना 

 हृदय-रिक्त गए शहर में 

भरे कुलांचे डगर-डगर में 

दो ही मौसम: पतझड़, सावन 

बाजी पायल छन-छन-छन-छन 

स्व-मृदा हुई स्मृतिशेष 

सबके अरमानों की हुई आहुति पेश

उसने हँस के कह दी- स्वीटी

सब हैं कड़वे, हम ही मीठी 

कल्पित मन के स्वप्न हुए साकार

मन में मोद, सिर गोद, तन में हुई  झनकार 

उर्मियों से मिली उर्मियाँ, हो गयी ललकार 

युग्मेच्छित नयनों में छा गया अंधकार 

निधि बोलीदैट इज सो क्यूट यार !

 

() कथा 

 कितने मुदित  हुए थे सब जन 

जब आया था लाल 

मनवांछित संतान मिला था 

हुआ था उन्नत भाल 

किलकारी गूँजी थी घर में 

अहा! वो स्वर्णिम-काल 

उम्मीदें बढ़ती ही रह गयी 

जैसे गुज़रे साल 

कि यौवन आन पड़ा!

और निमिष-मात्र में  हो गया कमाल 

उर का दूध, प्रेम स्वजनों का 

हो गया ज्यों बेकार 

पिता स्तब्ध

सिकुड़ा उनके वक्षों का विस्फार 

और उस पार 

निधि बोलीदैट इज सो क्यूट यार !



() सार 

 पिता मूक, माता बधिर 

पितर हुए लाचार 

कोई जीता, कोई गया हार 

कभी बजी शहनाई, कभी बजा सितार 

निधि बोलीदैट इज सो क्यूट यार !

 

नोट- क्रिसमस के दिन निधि को सूली चढ़ाना ध्येय नहीं. ही यह ध्येय है कि  निधि समाज की नुमाइंदगी करती है. समय अहिल्या, सीता और सावित्री की साक्षी रहेगी और सृष्टि उनके त्याग से प्रकाशित रहेगी।  

-ओंकारनाथ मिश्र 

(वृन्दावन, २५ दिसंबर २०२०)