Saturday, February 28, 2015

अपनी-अपनी लड़ाई में

अपनी-अपनी लड़ाई में बीतता है दिन-रात
अपनी-अपनी लड़ाई में व्यस्त है गाछ-पात
प्रस्फुटन, पल्लवन, पुष्पण से आगे भी है लड़ाई
और शिथिल हो कर डूब जाना ही एक सचाई

सौ, डेढ़-सौ या कुछ हज़ार साल
बस इसके लिए ही बजता है सबका गाल
सभ्यताएं, जीन, जंतु, जीवाश्म
सबका एक ही हाल, मृदा है काल

अपने-अपने शून्य का अपना-अपना स्वन
अपने-अपने वर्तमान का नित नया स्तनन
अपनी-अपनी दृष्टि का अपना वर्णन
आनंद क्षण-क्षण, आनंद कण-कण


(निहार रंजन, ऑर्चर्ड स्ट्रीट, २८ फ़रवरी २०१५ )